Sunday 4 January 2009

गंगा - जमुनी - इस देश की माटी

श्री युनुस खान - आकाश वाणी में कार्यरत हैं।

रेडियोवाणी के नाम से ब्लॉग लिखते हैं वे।

एक कविता अपने चिठ्ठे पर डाली है - जिसमे जन्माष्टमी का वर्णन हैआप पढ़ सकते हैं।

मैं शायद स्वयं को - और अन्यों को भी याद दिलाता हूँ - भारत के छोटे शहरों में जा के देखिये - आज भी यह गंगा-जमुनी जीवन शैली जीवित है।

यदि हम यह भूलने लगेंगे की इस देश की माटी में युनुस भाई जन्मते हैं, अब्दुल कलाम जन्मते हैं, उस्ताद बिस्मिल्लाह खान जन्मते हैं - फिर हम में और अन्य देशों में क्या अन्तर रह जाएगा.

No comments:

Post a Comment